डेंगू बुखार के लक्षण व उपचार

डेंगू भारत समेत अन्य 100 देशों में होने वाली एक आम बीमारी है जो मच्छरों के द्वारा कटे जाने पर एक तरह के वायरस के कारण फैलती है। वर्ष 2017 में National Vector Borne Disease Control Program (NVBDCP) के द्वारा किये गए सर्वे के अनुसार केवल भारत देश मे 1.88 लाख डेंगू के मामले दर्ज किए गए थे. जिसमें लगभग 325 लोगों ने डेंगू संक्रमण के कारण अपनी जान गवाई थी तथा वर्ष 2016 में डेंगू के 67000 मामले दर्ज किए गए हैं।

डेंगू बुखार किसी भी व्यक्ति को कभी भी हो सकता है क्योंकि मच्छर हर जगह पाए जाते हैं। लेकिन यह पता लगाना काफी मुश्किल होता है कि व्यक्ति को डेंगू है या नहीं। यदि आप भी उसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हम आपको आज आपने इस लेख के माध्यम से डेंगू बुखार के लक्षण व उपचार के बारे में विस्तार से बताएंगे।

डेंगू बुखार क्या है? | What is dengue fever in Hindi

डेंगू बुखार मच्छरों से फैलने वाला एक वायरल इंफेक्शन है जिसे आम भाषा में हड्डी तोड़ बुखार के नाम से भी जाना जाता है। जो व्यक्ति को एडिस मच्छर के काटने पर फैलता है। डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को तेज बुखार सिरदर्द का मांसपेशी एवं जोड़ों में दर्द के साथ-साथ त्वचा में चक्कते आदि निकल आते हैं। वैसे तो यह वायरस 10 दिनों में ही निष्क्रिय हो जाता है.

लेकिन जब यह अपना भयंकर रूप दिखता है तो शरीर में Dengue Haemorrhagic Fever का खतरा बढ़ जाता है। जिसकी बजह से अचानक ब्लड प्रेशर में गिरावट होती है और कभी-कभी तो डेंगू पीड़ित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है। इसीलिए डेंगू पीड़ित व्यक्ति को हॉस्पिटल में भर्ती होकर अपना सही उपचार कराना अति आवश्यक होता है।

डेंगू बुखार के लक्षण | Symptoms of dengue fever in Hindi

आमतौर पर डेंगू बुखार की समस्या 10 दिनों में समाप्त हो जाते हैं इस दौरान पीड़ित व्यक्ति के अंदर कई अलग-अलग लक्षण देखने को मिलते हैं जैसे-

  • आंखों में दर्द होना
  • शरीर पर लाल चकत्ते पड़ना
  • जी मिचलाना
  • बार-बार उल्टी आना
  • तेज सर दर्द
  • शरीर की मांसपेशियों हड्डियों और जोड़ों में दर्द
  • ग्लैंड्स में सूजन आना

लेकिन जब डेंगू का बुखार भयंकर रूप लेता है तो इस स्थिति में शरीर में मौजूद ब्लड वेसल्स को काफी हानि पहुंचती है तथाDengue Haemorrhagic Fever का खतरा भी बढ़ जाता है इसके अलावा कई अन्य लक्षण भी देखने को मिलते हैं जैसे-

  • लगातार उल्टी होना
  • मूत्र में या उल्टी में खून आना
  • सांस लेने में कठिनाई होना
  • शरीर में बहुत अधिक थकान महसूस होना
  • बेचैनी और चिड़चिड़ापन
  • त्वचा के नीचे रक्तस्राव होना
  •  मसूड़ों यार नाक से खून आना

डेंगू के लिए घरेलू उपचार

अगर आपको डेंगू के शुरुआती लक्षण हैं तो आप नीचे दिए हैं उपाय करके डेंगू का उपचार घर पर ही कर सकते हैं जैसे

Giloy

यह एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को स्ट्रांग बनाता है जिससे शरीर को डेंगू बुखार के प्रति लड़ने में शक्ति प्राप्त होती है। इस जड़ी बूटी को आप तुलसी के पत्तों के साथ गर्म पानी में उबालकर सेवन कर सकते हैं जो डेंगू बुखार के शुरुआती उपचार में काफी लाभकारी होती है।

 Papaya leaves

डेंगू का संक्रमण होने से शरीर में प्लेटलेट की संख्या काफी तेजी से गिरती है ऐसे में अगर आप पपीते की पत्तियों का रस बनाकर सेवन करने से यह शरीर में प्लेटलेट काउंट को तीव्र गति से इनक्रीस करता है और शरीर में मौजूद हानिकारक पदार्थों को बाहर निकालता है। जिससे डेंगू बुखार बहुत तीव्र गति से ठीक हो जाता है।

Turmeric

हल्दी में कई तरह के प्राकृतिक गुण पाए जाते हैं जो शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में कार्य करते हैं तथा शरीर में मौजूद डेंगू बुखार के वायरस से लड़कर तेजी से उसे खत्म करके व्यक्ति को स्वस्थ करने का कार्य करते हैं इसलिए डेंगू बुखार से पीड़ित व्यक्ति रोजाना दूध में हल्दी डालकर जूस बनाकर सेवन कर सकता है यह डेंगू से लड़ने में शरीर को शक्ति प्रदान करता है।

Goldenseal

Goldenrod जड़ी बूटी की जड़ का उपयोग डेंगू पीड़ित दवाई के तौर पर कर सकता है यह जड़ी-बूटी डेंगू के लक्षणों को दूर करने तथा शरीर में मौजूद डेंगू बुखार के वायरस को पूर्ण रूप से खत्म करने में काफी मददगार है। डेंगू पीड़ित इस जड़ी बूटी का रोजाना इस्तेमाल करके कुछ ही दिनों में डेंगू के बुखार से छुटकारा पा सकता है।

Fenugreek leaves

वैसे तो अधिकांश लोग मेथी की पत्ती को सब्जी तथा स्वाद के लिए इस्तेमाल करते हैं लेकिन क्या आपको पता है मेथी की पत्तियों को भिगोकर इसका पानी पीने से शरीर का बुखार कम होने के साथ-साथ शरीर में होने वाले दर्द में भी आराम प्रदान करता है तथा नींद को बढ़ाता है। यही कारण है कि डेंगू रोगियों को मेथी के पत्तों के पानी को पीने की सलाह दी जाती है।

FAQ

कट नारियल पानी से डेंगू बुख़ार का इलाज किया जा सकता हैं?

जी हाँ, नारियल पानी मे काफ़ी मिनरल पोषक तत्व मौजूद होते हैं। जो डेंगू बुखार के इलाज के लिए कारागार हैं।

डेंगू बुखार कितने दिन रहता हैं?

डेंगू बुखार आमतौर पर 5 से 7 दिनों तक रहता हैं।

डेंगू बुखार के लक्षण क्या हैं?

सर दर्द, उल्टी आना, सांस लेनेके दिक्कत आदि डेंगू बुखार के लक्षण होते हैं।

निष्कर्ष

वैसे तो डेंगू बुखार एक आम बीमारी है लेकिन जब मानव शरीर में डेंगू बुखार का संक्रमण फैलता है तो यह रोगी की मृत्यु का कारण भी बन सकता है इसलिए सही समय पर इसका उपचार करना बेहद जरूरी है।

लेकिन उससे पहले इसके सही लक्षण के बारे में पता लगाकर सही उपचार करना महत्वपूर्ण है. इसीलिए हमने आपको आज अपने लेख के माध्यम से डेंगू बुखार के लक्षण व उपचार के बारे में विस्तार से बताया था कि आप डेंगू के शुरुआती लक्षणों को पहचान कर सही इलाज कर सके।

नमस्कार दोस्तों, मैं Sandeep Singh, Technical Sandy(टेक्निकल सैंडी) का Technical Author & Founder हूँ। Education की बात करूँ तो मैं एक बी.कॉम Graduate हूँ। मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है। मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे। :) #We Technical Sandy Team Support DIGITAL INDIA

Share on:

Leave a Comment