IP address क्या है और यह काम कैसे करता है?

आज हम एक ऐसे विषय के बारे में विस्तृत रूप में जानेंगे जिसके वजह से आप हमारा यह आर्टिकल पढ़ पा रहे है, वह विषय जिसके वजह से आप अपने फ़ोन, सिस्टम, के जरिये इन्टरनेट काम ले पाते है, किसी दुसरे सिस्टम से कनेक्ट हो पाते है, जी हाँ, इस लेख में हम IP address के बारे में जानेंगे।

आज हम जानेंगे IP address क्या है और यह काम कैसे करता है?

IP address

IP एड्रेस का पूरा नाम Internet Protocol Address होता है, यह एक एसा नंबर होता है जो हर लैपटॉप, फ़ोन, कंप्यूटर सबकी एक अलग पहचान बनता और बताता है। किसी भी सिस्टम का IP address उस सिस्टम का पहचान नंबर होता है, सबसे अलग, सब में से एक।

जब हमारा सिस्टम जैसे की फ़ोन, लैपटॉप, कंप्यूटर, i-पैड इन्टरनेट से कनेक्ट होता है तो केवल और केवल IP address के वजह से ही वह जानकारियों का आदान प्रदान कर पाता है।

जरूरी बिंदु

  • एक IP-एड्रेस कंप्यूटर को निर्देशित करता है और अनुमति प्रदान करते है कि वह इंटरनेट के जरिये जानकारियों का आदान प्रदान कर सकता है।
  • इंटरनेट प्रोटोकॉल 4 प्रकार के होते है, पब्लिक, प्राइवेट, स्थिर व समय के साथ बदलने वाला।
  • एक इन्टरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस केवल अधिकारिक पार्टियों को ही जानकारी की अदन प्रदान करने की इज़ाज़त देता है और इसका मतलब यह है की इन्टरनेट प्रोटोकाल के जरिये आपकी लोकेशन का पता भी लगाया जा सकता है।

एक इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस काम कैसे करता है?

एक आईपी-एड्रेस कंप्यूटर को इंटरनेट पर डेटा भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देता है। अधिकांश आईपी एड्रेस शुद्ध रूप से संख्यात्मक होते हैं, लेकिन जैसे-जैसे इंटरनेट का उपयोग बढा है, कुछ इप-एड्रेस में अक्षर जोड़े गए हैं।

IP address क्या है और यह काम कैसे करता है?
IP Address

चार अलग-अलग प्रकार के आईपी पते हैं: , प्राइवेट, स्थिर व समय के साथ बदलने वाला । जबकि पब्लिक और प्राइवेट, नेटवर्क के स्थान के संकेत हैं – एक नेटवर्क के अंदर प्राइवेट का उपयोग किया जाता रहा है जबकि पब्लिक का उपयोग नेटवर्क के बाहर किया जाता है – स्टेटिक और डायनामिक स्थायीता को दर्शाता है।

एक स्थिर IP एड्रेस वह होता है जिसे असाइन किए जाने के बजाय मैन्युअल रूप से बनाया गया था। एक स्थिर पता भी नहीं बदलता है, जबकि एक गतिशील आईपी पता एक डायनामिक होस्ट कॉन्फिगरेशन प्रोटोकॉल (DHCP) सर्वर द्वारा सौंपा जाता है और परिवर्तन के अधीन होता है।

डायनेमिक आईपी एड्रेस इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस का सबसे सामान्य प्रकार है। डायनामिक आईपी एड्रेस केवल एक निश्चित समय के लिए सक्रिय होते हैं, जिसके बाद वे समाप्त हो जाते हैं। कंप्यूटर या तो स्वचालित रूप से एक नए लीज का अनुरोध करेगा, या कंप्यूटर को एक नया आईपी एड्रेस प्राप्त हो सकता है।

एक आईपी एड्रेस की तुलना एक सामाजिक सुरक्षा संख्या (SSN) से की जा सकती है क्योंकि हर एक कंप्यूटर या उपयोगकर्ता के लिए पूरी तरह से यूनिक है जिसे इसे सौंपा गया है।

इन नंबरों का निर्माण राउटर को यह पहचानने की अनुमति देता है कि वे इंटरनेट पर जानकारी कहां भेज रहे हैं। वे यह भी सुनिश्चित करते हैं कि सही उपकरण वही प्राप्त कर रहे हैं जो भेजा जा रहा है।

जिस तरह डाकघर को पैकेज देने के लिए डाक पते की आवश्यकता होती है, उसी तरह राउटर को अनुरोधित वेब एड्रेस पर पहुंचाने के लिए एक आईपी एड्रेस की आवश्यकता होती है।

IP-एड्रेस के वर्जन

इंटरनेट प्रोटोकॉल के दो वर्जन आज इंटरनेट पर आम उपयोग में हैं। इंटरनेट प्रोटोकॉल का मूल वर्जन जिसे पहली बार 1983 में इंटरनेट में सबसे पहले ARPANET में तैनात किया गया था,  इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्जन 4 (IPv4) है।

1990 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स और एंड-यूजर संगठनों को असाइनमेंट के लिए उपलब्ध IPv4 एड्रेस स्पेस की तेजी से थकावट ने इंटरनेट इंजीनियरिंग टास्क फोर्स (IETF) को इंटरनेट पर एड्रेसिंग क्षमता का विस्तार करने के लिए नई तकनीकों का पता लगाने के लिए प्रेरित किया। परिणाम इंटरनेट प्रोटोकॉल का एक नया स्वरूप था जिसे अंततः 1995 में इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्जन 6 (IPV 6) के रूप में जाना जाने लगा।

आज, इंटरनेट प्रोटोकॉल के ये दो वर्जन एक साथ उपयोग में आ रहे हैं। अन्य तकनीकी परिवर्तनों के बीच, प्रत्येक वर्जन, एड्रेस के प्रारूप को अलग तरह से परिभाषित करता है। IPv4 के ऐतिहासिक प्रसार के कारण, सामान्य शब्द IP एड्रेस आमतौर पर अभी भी IPv4 द्वारा परिभाषित एड्रेस को संदर्भित करता है।

IPv4 और IPv6 के बीच वर्जन अनुक्रम में अंतर 1979 में प्रयोगात्मक इंटरनेट स्ट्रीम प्रोटोकॉल के वर्जन 5 के असाइनमेंट के परिणामस्वरूप हुआ, जिसे हालांकि कभी भी IPv5 के रूप में संदर्भित नहीं किया गया था।

IPv4 एड्रेस

एक IPv4 एड्रेस का आकार 32 बिट का होता है, जो एड्रेस स्थान को 4294967296 (232) एड्रेसेस तक बढ़ा देता है। इस संख्या में से, कुछ एड्रेस निजी नेटवर्क (लगबग 18 मिलियन एड्रेस) और मल्टीकास्ट एड्रेसिंग (लगभग 270 मिलियन एड्रेस) जैसे विशेष कारणों के लिए आरक्षित हैं।

IP address क्या है और यह काम कैसे करता है?
IP Address क्या होता है?

IPv4 एड्रेस को आमतौर पर डॉट-पॉइंट संकेत में दर्शाया जाता है, जिसमें चार दशमलव संख्याएँ होती हैं, जिनमें से प्रत्येक 0 से 255 तक होती है, जो डॉट से अलग होती है, जैसे, 172.16.254.1

प्रत्येक भाग एड्रेस के 8 बिट्स (एक ऑक्टेट) के समूह के बारे में बताता है। तकनीकी लेखन के कुछ मामलों में, IPv4 पतों को विभिन्न हेक्साडेसिमल, ऑक्टल या बाइनरी लेखन में प्रस्तुत किया जा सकता है।

IPv6 एड्रेस

IPv6 में, एड्रेस का आकार IPv4 में 32 बिट्स से बढ़ाकर 128 बिट्स कर दिया गया, इस प्रकार 2128 (लगभग 3.403 × 1038) पतों को प्रदान किया गया। यह निकट भविष्य के लिए पर्याप्त माना जाता है।

Plagiarism क्या है और इसको कैसे चेक करे Top 5 Free Plagiarism Checker Tools

नए डिज़ाइन का इरादा केवल पर्याप्त मात्रा में एड्रेस प्रदान करना नहीं था, बल्कि सबनेटवर्क रूटिंग के अधिक कुशल एकत्रीकरण की अनुमति देकर इंटरनेट में रूटिंग को फिर से डिज़ाइन करना था।

IPv6 में ऐसी सुविधाएं हैं जो वैश्विक कनेक्टिविटी या रूटिंग नीति में परिवर्तन होने पर, आंतरिक रीडिज़ाइन या मैन्युअल री-नंबरिंग की आवश्यकता के बिना, पूरे नेटवर्क के रूटिंग उपसर्ग को स्वचालित रूप से बदल देती हैं।

सभी आधुनिक डेस्कटॉप और एंटरप्राइज़ सर्वर ऑपरेटिंग सिस्टम में IPv6 के लिए मूल समर्थन शामिल है, लेकिन यह अभी तक आवासीय नेटवर्किंग राउटर, वॉयस ओवर आईपी (VOIP) और मल्टीमीडिया उपकरण, और कुछ नेटवर्किंग हार्डवेयर जैसे अन्य उपकरणों में व्यापक रूप से सेवा में नहीं है।

ip

Conclusion

तो इस लेख में हमने जाना कि IP-एड्रेस क्या होता है, IP-एड्रेस क्या काम करता है, IP-एड्रेस कैसे काम करता है, IP-एड्रेस कितने प्रकार का है व IP-एड्रेस के प्रकारों के क्या कार्य है।

यदि आपको हमारा लेख पसंद आया है तो कृपया इसे अपने मित्रों तक जरूर पहुंचाए, ताकि  उन तक भी यह महत्वपूर्ण जानकारी हिंदी भाषा में उपलब्ध हो सके।

IP Address क्या होता है?

सबसे पहले ये जान लीजिये की IP की Full Form क्या है। Internet Protocol को शोर्ट में IP कहते है। ये एक Address होता है आपके Network Hardware का। Basically, ये वो Address है जिसकी मदत से आपके Network को Verify किया जाता है या कह लो की पहचाना जाता है। इसी Address की मदत से आपका computer दुसरे computer के साथ Files Share करता है या कह सकते है की communicate करता है।

IP Address किसलिए इस्तेमाल किया जाता है ?

जैसे की मेने आपको पहले भी बताया ki किसी भी device में इस्तेमाल होने वाले network का unique address होता है। इससे computer या किसी भी device को जिसमे Internet का इस्तेमाल किया जाता हो उसके network को पहचाना जाता है। आसान शब्दों में इसकी मदत से एक network connection दुसरे network connection को पहचानता है।

IP के दो formats कितने होते है?

IPv4 और IPv6

IP के कितने प्रकार होते है ?

इसके चार प्रकार के होते है Private IP Address, Public IP Address, Static IP Address, Dynamic IP Address.

नमस्कार दोस्तों, मैं Sandeep Singh, Technical Sandy(टेक्निकल सैंडी) का Technical Author & Founder हूँ। Education की बात करूँ तो मैं एक बी.कॉम Graduate हूँ। मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है। मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे। :) #We Technical Sandy Team Support DIGITAL INDIA

Share on:

2 thoughts on “IP address क्या है और यह काम कैसे करता है?”

Leave a Comment